ग्वालियर एसिड अटैक केस: महिला को तेजाब पिलाने के मामले में बड़ी कार्रवाई, TI लाइन हाजिर, ASI सस्पेंड

ग्वालियर में महिला को उसके पति द्वारा एसिड पिलाने के मामले में एसपी अमित सांघी ने डबरा टीआई विनायक शुक्ला को लाइन हाजिर किया है. वहीं एक एएसआई को सस्पेंड भी किया गया है.

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के ग्वालियर में नवविहाता पत्नी को उसके पति द्वारा एसिड पिलाने के मामले में पुलिसकर्मियों पर लापरवाही बरतने के मामले में कार्रवाई हुई है. इस मामले में डबरा टीआई पर गाज गिरी है. एसपी अमित सांघी ने डबरा टीआई विनायक शुक्ला को लाइन हाजिर किया है. वहीं एक एएसआई को सस्पेंड भी किया गया है.

मामला ग्वालिय के डबरा थाना क्षेत्र का है. जानकारी के मुताबिक 3 जुलाई को यहां पीड़िता की मां आई और उसने थाने में रिपोर्ट की थी कि उनकी बेटी को दहेज के लिए उसके मायके वाले परेशान कर रहे हैं. इस वजह से उसने जहर पी लिया है. पीड़ित ने बाद में एक्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट के सामने बयान दिया था कि उसके पति, भाभी और ननद उसे परेशान करते थे. उसके पति और भाभी ने मिलकर उसे एसिड पिला दिया. 28 जून के इस मामले में तीन जुलाई को रिपोर्ट दर्ज की गई थी. इस मामले में एक आरोपी को हिरासत में लिया गया है वहीं दो आरोपियों की तलाश जारी है.

पूर्व CM कमलनाथ ने की कार्रवाई की मांग

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस मामले में शिवराज सरकार से पीड़ित महिला को न्याय दिलाने की मांग की है. कमलनाथ ने इस मामले में पुलिस कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए कार्रवाई की मांग की. उन्होंने ट्वीट किया, “ग्वालियर के डबरा की बहन शशि जाटव के साथ घटित घटना बेहद नृशंस व हैवानियत भरी है. घटना के 22 दिन बाद पुलिस ने अन्य धाराओं को जोड़ा है, यह गंभीर लापरवाही है ?” उन्होंने आगे कहा, “मै सरकार से माँग करता हूँ कि पीडिता को न्याय मिले , उसकी हर संभव मदद हो , दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो , लापरवाही बरतने वाले ज़िम्मेदारों पर भी कार्यवाही हो.”

स्वाती मालीवाल ने की थी कार्रवाई की मांग

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने मंगलवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिख कर उस व्यक्ति के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की थी जिसने कथित तौर पर पत्नी को जबरन तेजाब पिलाया. आयोग ने कहा कि महिला दिल्ली के अस्पताल में भर्ती है और उसकी स्थिति नाजुक है. मालीवाल ने चौहान से कहा कि जितनी जल्दी संभव हो सके दोषियों को गिरफ्तार किया जाये और साथ ही उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई सुनिश्चित की जाए जिन्होंने इस मामले को संवेदनहीन तरीके से लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *