रायसेन….. 49 करोड़ 41 लाख में नीलाम हुई जिले की 56 रेत खदानें

सात माह हो रही रेत की चोरी पर लगेगी लगाम, अब ठेकेदार बेचेंगे रेत।….. 

रायसेन. सात माह बाद जिले की 56 रेत खदानों की फिर नीलामी हुई है। इन खदानों को ई-नीलामी प्रक्रिया के तहत दो ठेकेदारों को 49 करोड़ 41 लाख रुपए में नीलाम किया गया है। हालांकि अभी ठेकेदारों को खदाने मिलने से पहले लंबी कागजी प्रक्रिया होना बाकी है। तब तक रेत का अवैध कारोबार करने वालों को रेत की चोरी का अवसर मिलेगा।
जिला खनिज अधिकारी आरके कैथल ने बताया कि रेत खदानों की नीलामी हो गई है। दो हिस्सें में हुई इस नीलामी में जिले की खदानों को उदयपुरा-बरेली तथा बरेली-देवरी क्षेत्र में अलग-अलग नीलाम किया गया है। उदयपुरा-बरेली क्षेत्र की बीस रेत खदानों को यूफोरिया माइंस ने 18 करोड़ 14 लाख रुपए में लिया है, जबकि बरेली-देवरी क्षेत्र की 36 खदानो को पुष्पा एंटरप्राइजेज ने 31 करोड़ 27 लाख 11 हजार रुपए में लिया है।
सात माह में कट गई चांदी
सात माह पहले जिले की सभी 56 खदानो के ठेकेदार राजेंद्र रघुवंशी का ठेका विभाग ने निरस्त कर दिया था। नीलामी की राशि समय पर जमा नहीं करने के कारण उक्त ठेका निरस्त किया गया था। तब से जिले खदाने रेत माफियाओं के लिए सोने की खदान साबित हो रही थीं। रेत माफिया ने जमकर अवैध उत्खनन किया और कई जिलों में रेत सप्लाई की। राजनीतिक संरक्षण में रेत के खेल में लोगों ने जमकर चांदी काटी। भाजपा और कांग्रेस के कुछ नेताओं के संरक्षण में दिन रात रेत के डंपर दौड़े। पुराने स्टॉक की रेत बताकर नर्मदा को छलनी करते रहे। यहां तक कि नर्मदा के आस-पास के लोगों ने ट्रालियों से भी जमकर रेत बेची।
अभी कई खानापूर्ति बाकी
अभी तो खदानों की नीलामी हुई है। ठेेकेदार को सुपुर्द करने से पहले कई खानापूर्ति होना बाकी है। सबसे पहले ठेकेदारों को नीलामी राशि की 50 प्रतिशत राशि 15 दिन के अंदर जमा करना होगा। इसके अलावा पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एनओसी लाना होगा। इसके बाद खनिज विभाग के साथ एग्रीमेंट करना होगा, तब ठेकेदारों को खदाने सुपुर्द की जाएंगी।
इनका कहना है
जिले की 56 रेत खदानों की ई-नीलामी हो गई है। 50 प्रतिशत राशि जमा करने और बाकी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद ही ठेकेदार खदानो को ठेेकेदारों के सुपुर्द किया जाएगा।
आरके कैथल, जिला खनिज अधिकारी

49 करोड़ 41 लाख में नीलाम हुई जिले की 56 रेत खदानें

49 करोड़ 41 लाख में नीलाम हुई जिले की 56 रेत खदानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *