नोएडा प्राधिकरण : फ्लैटों में भी अवैध निर्माण, प्राधिकरण ने कहा-हर फ्लैट देखना संभव नहीं

श्रीकांत के साथ 2 सौ को जारी हुआ था नोटिस …?
सेक्टर-93बी स्थित ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी है। यहां पर सोमवार को श्रीकांत त्यागी के अवैध अतिक्रमण को तोड़ दिया गया था। इस दौरान काफी संख्या में इकट्‌ठा रहे …

नोएडा प्राधिकरण ने श्रीकांत त्यागी के अलावा, सेक्टर 93B ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी के 200 से अधिक रेजिडेंट्स को अवैध निर्माण हटाने के लिए नोटिस जारी किया था। ये नोटिस भी 2019 में जारी किए गए थे। इन सभी को खुद ही अवैध निर्माण हटाना था, लेकिन ऐसा हुआ नहीं।

सोमवार को सोसाइटी का दौरा करने से खुलासा हुआ। अधिकांश भूतल के फ्लैटों ने अतिक्रमण कर लिया गया है। अपने पीछे कॉमन एरिया को कवर कर लिया है। इस मामले में ग्रैंड ओमेक्स रेजिडेंशियल DWA (RESIDENCE WELFARE ASSOCIATION) के अध्यक्ष अविनाश माथुर से बातचीत करने की कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने कुछ भी बोलने से मना कर दिया।

2019 में श्रीकांत को नोटिस जारी किया गया था। इस तरह करीब 2 सौ रेजिडेंट्स को नोटिस जारी किया गया था।
2019 में श्रीकांत को नोटिस जारी किया गया था। इस तरह करीब 2 सौ रेजिडेंट्स को नोटिस जारी किया गया था।

कॉमन एरिया में अतिक्रमण
नोएडा में बड़े पैमाने पर अवैध निर्माण, हाइराइज सोसाइटी में बालकनियों का विस्तार, अस्थायी या स्थायी निर्माण द्वारा कॉमन एरिया में अतिक्रमण है। यहां ऐसे ही अधिकांश फ्लैट बने हुए हैं, जिस पर कोई आपत्ति नहीं है। भूतल पर रहने वाले निवासी इनमें से अधिकांश उल्लंघन कर रहे हैं, यहां तक ​​कि ऊपरी मंजिलों पर लोग बालकनियों को लोहे की चादर से ढक रखा है जो कि बॉयलाज का उल्लघंन है।

नोएडा अथॉरिटी का कहना है, “हर फ्लैट पर नजर रखना नामुमकिन है। प्राधिकरण की चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर (CEO) रितु माहेश्वरी ने बताया, “प्राधिकरण कंप्लीशन सर्टिफिकेट जारी करने से पहले निरीक्षण करता है। अवैध निर्माण फ्लैटों में रहने के बाद किए जाते हैं।”

“निजी बिल्डरों की सोसाइटियों में लाखों फ्लैट हैं। प्राधिकरण कंप्लीशन सर्टिफिकेट जारी करने के बाद हर घर की जांच नहीं कर सकता है। आमतौर पर शिकायत मिलने के बाद कार्रवाई की जाती है। प्राधिकरण यथासंभव मानदंडों को लागू करने का प्रयास करता है। यह मामला तब सामने आता है जब दो गुट आमने-सामने आ जाते हैं।”

श्रीकांत के ग्रैंड ओमेक्स में अपने फ्लैट के बाहर अवैध निर्माण किया था, जिसे सोमवार को ध्वस्त कर दिया गया।
श्रीकांत के ग्रैंड ओमेक्स में अपने फ्लैट के बाहर अवैध निर्माण किया था, जिसे सोमवार को ध्वस्त कर दिया गया।

“अतिक्रमण को ध्वस्त किया जाना चाहिए”
RWA सेक्टर 51 के महासचिव संजीव कुमार ने कहा, “अतिक्रमण को भी ध्वस्त किया जाना चाहिए। नोएडा प्राधिकरण तब तक कोई कार्रवाई नहीं करता जब तक कि यह हाई प्रोफाइल मामला न हो या मामला मीडिया में उजागर न हो जाए। पहला नोटिस जारी करने के बाद अधिकारी आमतौर पर दूसरा नोटिस जारी नहीं करते हैं। नियम के अनुसार, तीसरा नोटिस को अंतिम माना जाता है इसके बाद ही ध्वस्तीकरण की प्रक्रिया हो सकती है।”

नोएडा फेडरेशन ऑफ अपार्टमेंट ओनर्स एसोसिएशन (NOFAA) के अध्यक्ष राजीव सिंह ने कहा, ” नोएडा में ये आम समस्या है। ऐसी स्थिति में नियमों को लागू करना प्राधिकरण की जिम्मेदारी है। इसके लिए प्राधिकरण को AOA और पुलिस के साथ नियमित रूप से संयुक्त बैठकें करनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *